Posts

Showing posts from August, 2016

कान्हा

Image
साभार गुगल


रोएगी सगरी ब्रिज की ये गलिया
हंस ना सकेगी मधुबन की कलियाँ
अब के बिछुर के गले मिल न सके
हठ कर ज़ी भर रोएगी ये अखियाँ
आराधना राय अरु

राधा- कृष्णस्वप्न सलोने

Image
स्वप्न सलोने देने वालो सपनों का आकाश बनालो
                                                                        धीर-धरम को रीत  बना कर, सपने की आस जगलो।।

                                                                         कंचन देह बना के देखि सुमन ,सुधा,हर्षा के भी देखे
                                                                        पैरों के कांटे भी देखे, हाथो के छाले दुख के भी देखे।।

                                                                       रूप नवल है ,सोने जैसा,हो जाना है मिटटी के जैसा
                                                                       कर्म- विधान इक अपना लो, जीवन को कर्मठ बना लो।।


                                                                          आराधाना राय अरु

गीत नाट्य काव्यात्मक संवाद

Image
गुगलसाभार

आध्यात्म कहता है राधा ही कृष्ण थी कृष्ण राधा कैसे
इसी प्रश्न को राधा ने भी दोहराया था

सबसे बड़ा है  प्रश्न कौन है  हम



परिदृश्य-----श्याम वर्णी सो रहे थे,
मंद मंद से समीर में खो रहे थे,
भोर का प्रथम आगमन था,
वहाँ कलियों ने मुख ना देखा था,

 गोपियाँ                            कलियों ने मुख ना देखा था।
                                          झरझर करती नीलमा आई
                                         मुख देख कृष्णा का लजाई।
                                        'अरु' श्यामा मुख चुम आई
                                         तीखे  बयन सब सुन आई।

  राधा संवाद --               राधा बोली क्या मैं राधा बन आई सखि

कान्हा बोले-            तू मेरी बाला है,राधा है ,सीता के बिन,राम नही तो तू राधा,सीता- सखी, मेरी बाला है।
                               मेरे अंतरमें राधा ,तू कार्य रूप शक्ति है प्रेम है पर मेरे ही अंतस की ज्वाला है, राधा तू                                        शक्ति रुपनी परम प्रीत कि ज्वाला है।
बात अजब थी और निराली  राधा ने हंस कर दोहराया सखि स्याम रंग में पी स…